Breaking News

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020-पढ़ना होगा बेहतर और आसान

मानव संसाधन विकास मंत्रालय का  नाम  बदलकर शिक्षा मंत्रालय कर दिया गया उसी  के साथ New National Education Policy 2020 की रूप रेखा भी तैयार कर दिया गया ,बरसो बाद भारत में शिक्षण निति को बदला जा रहा है,मोदी सरकार की नयी शिक्षण पद्धति के अनुसार विद्यार्थी पढ़ाई के साथ साथ व्यवहारिक ज्ञान भी प्राप्त करे वह भी किसी भी तरह के मानसिक तनाव के बिना,और अपने भविष्य को सुनहरा बना पाए,34 साल बाद आज शिक्षा का सिलेबस बदला गया है,



नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020--पढ़ना होगा बेहतर और आसान कैसे ?

1. वर्तमान पद्धति  में 10 + 2 बोर्ड संरचना  बदलकर नई पद्धति 5 + 3 + 3 + 4  की पद्धति  होगी,
2. 1 से 5 तक प्री स्कूल, यानी पहले पांच साल को foundation  stage माना जाएगा, जिसमे छात्रों के भविष्य को सुनहरा बनाने के लिए मजबूत नींव राखी जाएंगी, जिसे NCERT द्वारा तैयार किया जाएगा, जिसमे पहली और दूसरी कक्षा एक वर्ष और परइ प्राइमरी के तीन वर्ष शामिल होंगा,जिसमे खेल कूद और अन्य प्रवृति के जरिये पढ़ाया जाएगा, यानी अब बच्चो को किताबो का ज्यादा बोज नहीं उठाना होंगा, दूसरी एहम बात करे तो पांचवीं कक्षा तक मातृभाषा में पढ़ाया जाएगा, 
3, फिर रहेगा 6 से 8 जिसे मिड स्कूल जिसमे व्यावसायिक पाठ्यक्रम उपलब्ध हैं,एहम बात केरे तो 8 वीं तक क्षेत्रीय भाषा अनिवार्य,कक्षा 6 और उसके बाद के छात्रों को 21 वीं सदी के कौशल के एक भाग के रूप में स्कूलों में कोडिंग सिखाई जाएगी,
उसके बाद 9  से 11 हाई स्कूल जहां छात्र अपने पसंदीदा विषय चुन सकते हैं,इस चरण में सुझाए गए परिवर्तनों में एक बहु-विषयक अध्ययन शामिल है जहां छात्र उपलब्ध संरचना से किसी भी विषय को चुन सकते हैं,जिसमें  बच्चा अपनी रुचि के अनुसार विषयों को चुन सकता है - तकनीकी और कला भी।
4 ,और 12th से  ग्रेजुएशन के लिए 4 साल  होंगे, New National Education Policy 2020 के अनुसार कोई भी डिग्री 4 साल की होगी
5 . सभी स्नातक पाठ्यक्रम में प्रमुख और मामूली होंगे 
उदाहरण - A student of science may also have a minor in physics as a major and music. Any combination he can choose
6 .All higher education केवल एक प्राधिकरण द्वारा शासित होंगी,
7 . UGC और AICTI  का विलय किया जाएगा,
8. सभी Universities Government, Private,Open, Deemed, Vocational आदि में समान ग्रेडिंग और अन्य नियम होंगे
9. देश में सभी प्रकार के शिक्षकों के लिए New Teacher Training Board की स्थापना की जाएगी,जिसे  कोई भी राज्य नहीं बदल सकता है
10 ,किसी भी collage को प्रत्यायन का समान स्तर, इसके Rating collage के आधार पर Autonomous rights और धन मिलेगा।
11 . माता-पिता के लिए घर में 3 साल तक के बच्चों को पढ़ाने के लिए सरकार द्वारा नया बुनियादी शिक्षण कार्यक्रम बनाया जाएगा
12 .Multiple entry and exit courses
13.प्रत्येक वर्ष के लिए स्नातक के लिए From credit system से Student को कुछ credit मिलेंगे,जिसका वह उपयोग कर सकता है,यदि वह पाठ्यक्रम में Break लेता है एवं पूरा Cours  करने के लिए फिर से वापस आता है,

14. सभी schools  की exam एक वर्ष में semester wise  होगी
15. छात्र व्यावहारिक और अनुप्रयोग ज्ञान पर अधिक ध्यान दें
16.  किसी भी स्नातक पाठ्यक्रम के लिए यदि छात्र केवल एक वर्ष पूरा करता है तो उसे एक  basic certificate  मिलेगा, यदि वह दो वर्ष पूरा करता है तो उसे diploma certificate मिलेगा,जब वह  पूर्ण पाठ्यक्रम पूरा करता है तभी  उसे degree certificate मिलेगा, यानीछात्र को यह फायदा है की  बीचमे से अभ्यास छोड़ देते है या अन्य कारणवश अभ्यास बदलते हे तो पहले जितने वर्ष पूर्ण करे है उसका प्रमाणपत्र भी  जरूर प्राप्त होगा, वर्तमान में वह पद्धति नहीं है  
17. सभी विश्वविद्यालयों के सभी स्नातक पाठ्यक्रम फीड प्रत्येक प्राधिकरण पर कैपिंग के साथ एकल प्राधिकरण द्वारा शासित होंगे

New National Education Policy 2020  और भी सिंपल भाषा में कहे तो 

- बोर्ड परीक्षा के महत्व को कम करके पुनरावृत्ति पर ज्ञान को प्राथमिकता दी जाएगी
- रिपोर्ट कार्ड में न केवल अंक और अंक दिए जाएंगे, बल्कि इसमें कौशल और क्षमताओं पर भी विचार किया जाएगा
- शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत आयु सीमा में वृद्धि
- छात्र एक साथ दो शाखाओं का अध्ययन कर सकते हैं
- कला, खेल, संगीत, योग, सामाजिक सेवा पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा
- स्कूली शिक्षा और उच्च शिक्षा के साथ-साथ कृषि शिक्षा, कानून शिक्षा, चिकित्सा शिक्षा और तकनीकी शिक्षा को भी इस श्रेणी में लाया गया है।
- विकलांग छात्रों के लिए उपयुक्त शैक्षिक सॉफ्टवेयर का निर्माण
- राष्ट्रीय शिक्षा आयोग की स्थापना के लिए सिफारिश
- निजी स्कूलों को अनियंत्रित फीस बढ़ाने से रोकने की सिफारिश
- सेमेस्टर पैटर्न पर जोर

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020--पढ़ना होगा बेहतर और आसान एवं फायदे अनेक 

- स्वास्थ्य देखभाल शिक्षा के सभी रूपों में निवारक स्वास्थ्य देखभाल और सामुदायिक चिकित्सा पर अधिक जोर दिया जाना 
 - तकनीकी शिक्षा का लक्ष्य बहु-विषयक शिक्षण संस्थानों और कार्यक्रमों के भीतर पेश किया जाना है और अन्य विषयों के साथ गहराई से जुड़ने के अवसरों पर नए सिरे से ध्यान केंद्रित करना है,
- भारत को अत्याधुनिक क्षेत्रों में पेशेवरों को तैयार करने में भी अग्रणी भूमिका निभानी चाहिए,जैसे कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), 3-डी मशीनिंग, बड़े डेटा विश्लेषण और मशीन लर्निंग, जीनोमिक अध्ययन, जैव प्रौद्योगिकी,एवं नैनो टेक्नोलॉजी,न्यूरोसाइंस,स्वास्थ्य,पर्यावरण और टिकाऊ जीवन के लिए महत्वपूर्ण अनुप्रयोगों के साथ, जो युवाओं की रोजगार क्षमता बढ़ाने के लिए स्नातक शिक्षा में बुनी जाएगी,
-बोर्ड परीक्षा का महत्व कम, वर्ष में दो बार परीक्षा आयोजित की जा सकती है बोर्ड परीक्षा के महत्व और तनाव को कम करने के लिए, परीक्षा दो भागों में आयोजित की जाएगी,
-बोर्ड परीक्षा में रट्टा सीखने के बजाय ज्ञान आवेदन को बढ़ावा देना चाहिए,
-ऐप,टीवी चैनल आदि के माध्यम से पढ़ाई प्रौढ़ शिक्षा के लिए गुणवत्तापूर्ण प्रौद्योगिकी-आधारित विकल्प जैसे ऐप, ऑनलाइन पाठ्यक्रम/मॉड्यूल, उपग्रह-आधारित टीवी चैनल, ऑनलाइन किताबें, और आईसीटी से सुसज्जित पुस्तकालय और वयस्क शिक्षा केंद्र आदि विकसित किए जाएंगे,

कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे