Breaking News

१५ अगस्त २०२० जश्न ऐ आज़ादी का इतिहास-पर्व कैसा एवं कहा होंगा


15 अगस्त 1947 में भारत को आधी रात स्वतंत्रता कैसे मिली,राष्ट्र धवज का मापदंड और हमारे प्यारे तिरंगे की कल्पना किसने करी,15 अगस्त 2020  जश्न ऐ आज़ादी का इतिहास-पर्व कैसा एवं कहा होंगा वह सब जानकरी भी पढ़े .....
15 august 
 image loaded by https://www.techradar.com


१५ अगस्त २०२० जश्न ऐ आज़ादी का इतिहास


सन 1857 से ब्रिटिश हुकूमत से स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए विद्रोह शुरू हुआ, अलग अलग नेतृत्व में हिन्दुस्तानी स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए ब्रिटिश सरकार के खिलाफ लड़ते रहे, 7 लाख से अधिक लोगो ने अपने प्राणो की आहुति दी तब जाकर हमारे भारत को स्वतंत्रता मिली थी, आजकी पीढ़ी के किस्मत की लकीरे उन 7 लाख शहीदों के रक्त से खींची गयी थी
 ब्रिटिश सरकार 30 जून 1948 तक भारत को सत्ता देने वाले थे, मगर सी.राजगोपालाचारी ने भारत लॉर्ड माउंटबेटन को सुझाव दिया कि भारत को स्वतंत्रता 30 जून1948 नहीं बल्कि 15 अगस्त 1947 को देनी चाहिए. 
 राजगोपालाचारी का मानना था की अगर 30 जून 1948 तक  इंतजार किया गया तो हस्तांतरित करने के लिए कोई सत्ता ही नहीं बचेगी. बात से सहमत होते हुए लार्ड  माउंटबेटन द्वारा 4 जुलाई 1947 के रोज  ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमंस में Indian Independence Bill को पेश करा  गया और बिल 18 जुलाई 1947 को स्वीकारा गया, और 15 अगस्त 1947 को मध्यरात्रि 12 बजे भारत की आजादी की घोषणा की गई,

१५ अगस्त २०२० जश्न ऐ आज़ादी का दिवस 


सन 1947 से हर वर्ष 15 अगस्त को मनाया जाता है
इस वर्ष 15 अगस्त 2020, शनिवार के दिन 74 वाँ स्वतंत्रता दिवस पूरे भारत के लोगों द्वारा मनाया जायेगा, यह एक जाती धर्म का नहीं बल्कि राष्ट्रीय पर्व हैं जो संपूर्ण राष्ट्र के लोगो द्वारा मनाया जाता है 
राष्ट्रिय ध्वज एवं चिन्ह 
अनुपात-3:2 लम्बाई:चौड़ाई 
अंगीकृत-1947
अभिकल्पना- तिरंगा झंडा (भारत केसरिया,सफेद और भारत हरा)
सफेद पट्टी के केंद्र में 24 तीलियां के साथ एक गहरे नीले रंग का पहिया।
अभिकल्पनाकर्ता-पिंगली वैंकैया या पिंगलि वेंकय्या भारत के राष्ट्रीय ध्वज के अभिकल्पक हैं, वे भारत के सच्चे देशभक्त एवं कृषि वैज्ञानिक भी थे,

कहाँ स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है

राष्ट्रीय स्तर पर
देश के प्रथम नागरिक राष्ट्रपति Independence day  की पूर्वसंध्या पर "राष्ट्र के नाम संबोधन" देते हैं,दूसरे दिन दिल्‍ली में लाल किले पर प्रधानमंत्री द्वारा तिरंगा झंडा फहराया जाता है 

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर

विदेश में जहा भी भारतीय दूतावास है वहा और भारतीयों की आबादी ज्यादा है वह स्थानों पर स्वतंत्रता पर्व मनाया जाता है,

राज्य स्तर पर

 सभी राज्यों की राजधानी में इस पर्व पर ध्वज वंदन कार्यक्रम आयोजित किया जाता है, मुख्यमंत्री तथा सुरक्षाबल राष्ट्रध्वज को सलामी देते हैं 

स्थानीय स्तर पर 

 स्थानीय प्रशासन, जिला प्रशासन, नगरीय निकायों, पंचायतों में भी इसी प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, यहाँ तक सभी शैक्षिक संस्‍थानों में, आवासीय संघों में, सांस्‍कृतिक केन्‍द्रों में पर्व मनाया जाता है,
जय हिन्द जय भारत 


कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे