Breaking News

गणेश चतुर्थी का यह दुर्लभ योग 126 साल बाद-स्थापन का उत्तम समय -नियम

मशहूर ज्योतिषो का कहना है 126 साल बाद गणेश चतुर्थी का दुर्लभ योग हो रहा है,पहले गणेश पूजा परिवार तक ही सीमित थी,1894 में श्री बालगंगाधर तिलक जी ने सार्वजनिक गणेशोत्सव का प्रारम्भ करा था,ब्रिटिश सरकार की चुंगल से देश को मुक्त करवाने देश और ख़ास कर मराठा लोगो में स्वराज के प्रति जाग्रति फैलाने और लोगो को इस लड़त में एक साथ जोड़ने के लिए सार्वजानिक गणेशोत्सव शुरुआत करी थी, उस वक्त ग्रहो की दशा की बात करे तो सूर्य सिंह राशि में और मंगल मेष राशि में था 126 साल बाद ग्रहो की स्थिति वही है, और यह बड़ा दुर्लभ योग का निर्माण हो रहा है,
lalbag cha rajja
 image loaded by https://itsgoa.com


गणेश स्थापन का समय 

गणेशोत्सव मंगल के चित्रा नक्षत्र में होना अति शुभ माना जाता है, सुबह के 11:39  से 12:49 बजे विजय मृहुत के दौरान घरमे भगवान् गणपतिजी का स्थापन करे जिससे आपके घर रिध्धि सिद्धि के साथ साथ आपके जीवन में  यश कीर्ति भी प्राप्त हो, भगवान गणेश भगवान गणेश को बुद्धि,समृद्धि और सौभाग्य के देवता के रूप में माना जाता है।

गणपति की स्थापना करते हुए इस बात का ध्यान रखें

मूर्ति का मुंह पूर्व दिशा की तरफ होना चाहिए, गणेश पूजा शुरू करने से पहले संकल्प लेना होता है, इसके बाद भगवान गणेश का आह्वान किया जाता है, इसके बाद गणपति की मंत्रों के उच्चारण के बाद स्थापना की जाती है, भगवान गणेश को धूप, दीप, वस्त्र, फूल, फल, मोदक अर्पित किए जाते हैं इसके बाद भगवान गणेश की आरती उतारी जाती है।

मुंबई महानगर पालिका ने कोविद -19 के रहते कुछ नियम के तहत गणेशोत्सव 2020 को परमिशन दी है:

बीएमसी के अधिकार क्षेत्र में लगभग 12,000 छोटे और बड़े सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल हैं, बीएमसी ने आदेश दिया है कि सार्वजनिक गणेशोत्सव के लिए इस वर्ष स्थापित की जाने वाली मूर्ति की ऊंचाई 4 फीट से अधिक नहीं होगी, पंडालों (तम्बू) में सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करना महत्वपूर्ण है।
फूलों, मालाओं और प्रसाद की बिक्री के लिए अस्थायी स्टालों पर प्रतिबंध लगाया गया है,जो हर साल गणेश मंडप के आसपास और आसपास की सड़कों पर स्थापित किए जाते हैं.
गणेशोत्सव के त्योहार के दौरान ऐसी कोई भी चीज़ नहीं की जाएगी जो कोरोनोवायरस  संक्रमण को अधिक फैलाये, यदि कोई उल्लंघन पाया जाता है तो संक्रामक रोग अधिनियम,1897, राष्ट्रीय आपदा निवारण अधिनियम, 2005 और भारतीय दंड संहिता, 1860 के तहत कड़ी कार्रवाई हो सकती है..  
स्वस्थ रहे सुरक्षित रहे,जय हिन्द जय भारत 

महाराष्ट्र जागरण  के सदस्य बने हर उत्सव और देश की एहम बात आप तक आसानी से पहुंचा पाए

कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे