Breaking News

रिया चक्रवती ने मिडिया ट्रायल बंद करवाने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर क्यों करी ?

रिया चक्रवर्ती ने सुप्रीम कोर्ट में नई याचिका दायर करी है जिसमें चल रहे मीडिया ट्रायल बंद करवाने अपील करी है,सुप्रीम कोर्ट में दिए गए हलफनामे में अभिनेत्री Reha Chakarvatyi  ने आरोप लगाया कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर उन्हें मीडिया द्वारा दोषी ठहराया गया है,हलफनामे में कहा गया है की  बिहार में होने वाले चुनावों में फायदा उठाने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री द्वारा किया जा रहा है,उच्चतम अदालत से अपील करते हुए रिया ने अनुरोध किया की उसे राजनीतिक एजेंडे का बलि का बकरा नहीं बनाया जाना चाहिए,

sushant-sc-reah

रिया चक्रवती ने मिडिया ट्रायल बंद करवाने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करी- हलफनामे के अंश कुछ 


- मुख्यमंत्री सुशांत सिंह राजपूत की मौत के लिए पटना में प्राथमिकी दर्ज करने के लिए वह जिम्मेदार हैं,
- यह मुद्दा मीडिया में अनुपात अनुसार उठाया गया है,मीडिया चैनल मामले के सभी गवाहों की पूछताछ कर रहे हैं, सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर एक पक्षी हमला करते हुए याचिकाकर्ता को मीडिया ने दोषी ठहराया है, 
- मिडिया आंदोलन की तरह याचिकाकर्ता के अधिकारों की गोपनीयता का उल्लंघन किया
-बिहार के सुशांत सिंह राजपूत की दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु बिहार में चुनाव की पृष्ठभूमि में हुई,इसने मृतक की आत्महत्या के मुद्दे को चुनावी फायदे के लिए उछाला जा रहा है, 
-हल ही में मुंबई में अभिनेता आशुतोष भाकरे/समीर शर्मा ने भी आत्महत्या की है  मुद्दों  कोई महत्त्व नहीं दिया गया जितना राजनितिक लोग जानबूझकर  मुद्दे को उछाल रहे है, 
-मीडिया ने टूजी और तलवार मामलों के अभियुक्तों को ऐसे ही दोषी ठहराया था,जहां प्रत्येक अभियुक्त को बाद में अदालत ने बरी कर दिया था,इससे बदनामी  होती है,
-प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई के बहु-अरब रुपये के वित्तीय घोटालों की जांच कभी भी व्यापक दिन के उजाले में नहीं देखी जा सकती है और यहां तक ​​कि हैट-ट्रिक के बाद भी, तब भी अपराध की रिपोर्ट की जाती है जब मूल मामले में कोई अधिकार क्षेत्र नहीं होता है,
कुल मिलाकर चारो और से घिरती नजर आते ही इमोशनल कार्ड खेलने लगी और सीबीआई जांच ना करने कह रही है,जो पहले सीबीआई जांच की मांग कर रही थी,

याचिका में चौकाने वाली बात 

याचिका में चौंकाने वाली बात है की महाराष्ट्र राज्य सरकार और रिया चक्रवर्ती की याचिका में ज्यादातर समानता है, यहाँ सबसे बड़ी चौंकाने वाली बात करे तो रीया वकील,जो वकील  हियरिंग के १० लाख रुपिया  लेते है,तो सवाल यह है की इतने महंगे वकील कहा से परवडते है रिया को?
यह वही वकील है जो महाराष्ट्र सरकार के लिए अक्सर केस लड़ते है,अमित शाह को ट्वीट करते हुए सीबीआई जाँच के लिए मांग रही थी आज मना क्यों कर रही  है ?
याचिका देख ऐसा लगता है की रिया महाराष्ट्र सरकार को बचाने और महाराष्ट्र सरकार खुदको और रिया को    बचाने  है,

रिया चक्रवती ने मिडिया ट्रायल बंद करवाने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर क्यों करी ?

रिया को पहले लगा होगा की मामला आसान है ,पैसे आसानी से आ गया,पब्लिसिटी भी फ्री  गयी तो  महेश भट्ट एक फिल्म बना देंगे  खुद भी बड़ी हीरोइन  जाएंगी,
उसे मालूम नहीं था इंडियन मिडिया उसके पीछे हाथ धोकर पड़ जाएगा,उसे पता नहीं की मामला सीबीआई और ED तक जाएगा,अब वह गबरा गयी है और खुद को CBI के सवालों से बचाना चाहती है,हर कोई जनता है की सीबीआई क मुकाबला कठिन है,बड़े बड़े तीसमारखाँ धूल चाटते है, इसीलिए महाराष्ट्र सरकार और रिया दोनों नींद ख़राब है,उसीका नतीजा संजय राउत की दिमागी हालत से भी पता चलता है,

संवादाता -RAJU S PATEL

 सलाह-अनजाने में किये हुए पाप कुदरत माफ़ करती है,मगर सोच-समझकर प्लानिंग के तहत किये पाप या कृत्य की किंमत आपको व्याज सहित अदा करनी होती है,हां कभी देरी होती है सजा में तो,व्याज भी उतना ही बढ़ता हैं .....धन्यवाद ,सत्यमेव जयते

कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे