Breaking News

भारत चीन बॉर्डर LAC पर 49 साल बाद चली सेंकडो गोलिया- युद्ध के पुरे आसार

पिछले कई दिनों से भारत और चीनी सेनाओ के बिच LAC पर काफी गर्मागर्मी चल रही है,क्यूंकि 49 साल के बाद पहली बार ऐसा मौका आया है की भारतीय जवानो ने चीनी जवानो के सपने को ध्वस्त कर दिया है,भारत चीन बॉर्डर  LAC पर 49 साल बाद चली सेंकडो गोलिया- युद्ध के पुरे आसार  
india vs chin image
 loaded https://www.sundayguardianlive.com




49 साल पहले चीन ने भारत की जमींन का बड़े एरिया को हथिया लिया था,तब से वहा जो ऊंचाई वाले पहाड़ो पर चीनी सेना का प्रभुत्व रहा,कभी भारतीय सेना उन ऊंचाइयों पर पहुँच नहीं पायी, 
मगर यह मोदी सरकार है जिन्होंने भारतीय सेना को पिछले 30 साल से जो सश्त्र,बूलेट प्रूफ जैकेट,फाइटर प्लेन,गन जो भी कमी महसूस हो रही थी वह पूरी करि,दुसरा सेना के बंधे हुए हाथ खोल कर कहा की परिस्थिति के अनुरूप खुद फैसला करे,कोई भी निर्णय करने के लिए दिल्ही फोन कर के अनुमति मांगने की जरुरत नहीं  है,
यहाँ तक लदाख में LAC पर शस्त्र सरंजाम जल्द से जल्द पहुँच पाए इसीलिए रात दिन एक कर पक्का रोड बना लिया,
14 महीने का राशन पानी सर्दियों में सैनिको के प्रोटेक्शन की सुविधा सब कुछ बॉर्डर पर पहुंचा दिया गया,नतीजा यह है की हमारे सैनिको का मनोबल बढ़ा हुआ है,
आज उसी का नतीजा है की आज हमारे सैनिको ने चीनी सेना की नींद हराम करि हुई है,पिछले 49 साल से जहा चीनी सेना कब्ज़ा जमाये हुई थी ,वह पहाड़िया ऐसी थी जहा से चीनी सेना की एक एक हिलचाल पर नजर रख सकते है,वह पहाड़ी पर चीनी सेना आकर बैठे उसके पहले भारत की सेना ने कब्ज़ा जमा दिया और अपनी चौकी बना दी,
इस बात से चीनी सेना और सरकार दोनों की नींद ख़राब कर दी, एक तरफ दोनों पक्ष की और से सेना के अधिकारी और विदेश मंत्री मीटिंग कर रहे है, मगर LAC पर दोनों सेना आमने सामने तक़रीबन 300 मीटर की डिस्टेंस पर आमने सामने आ चुकी है, और पिछले हप्ते में तक़रीबन 200 से अधिक फायरिंग हुई है दोनों तरफ से मगर किसी की जान हानि नहीं हुई,

इसे भी अवश्य पढ़े 

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में 30 सितंबर 2020 को होगा फैसला-किसको कितनी सजा होंगी ?

चीनी सेना को लगता है की हवा में फायरिंग करने से भारतीय सेना डर कर उन ऊँची पहाड़ियों पर से उतर जाएंगी, मगर चीनी सेना की सोच को गलत ठहरा दिया है भारतीय सैनिको को ने भी जवाबी फायरिंग करि और चीन को बता दिया की यह 1962 नहीं, 
दोनों तरफा सैन्य अधिकारियो की मीटिंग के दौरान भी चीनी अधिकारीयों ने प्रस्ताव रखा की वह ऊंचाई वाली जगह खली करे, मगर भारतीय अधिकारियो ने साफ़ मना कर दिया, 
आज चीन की भाषा में ही चीन को जवाब दे रहे है भारतीय सैनिक, जिसकी बदौलत हम सभी देश वासी चैन की नींद सो जाते है, इसीलिए हमेशा भारतीय सेना और सैनिको का आदर करे उन्हें सलाम करे, (ना की मुंबई के शिवसैनिक गुंडों की तरह किसी पूर्व सैनिक का अपमान करे ). जय हिन्द ,भारत माता की जय 

कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे