Breaking News

अष्टविनायक श्री वरदविनायक (shree varad vinayak) महाड दर्शन

वरदविनायक को अष्टविनायक के भगवन गणपति  का तीसरा  रूप में माना जाता है, वरदविनायक मंदिर भारत में महाराष्ट्र राज्य के रायगढ़ जिले के खालापुर तालुका के महड गाँव में स्थित है,यह एक स्व-निहित जगह है और इसे एक मठ भी कहा जाता है।
varad vinayak
image loaded by http://ashtavinayaktemples.com



श्री वरदविनायक का मंदिर सरल है,गणेश की प्रतिमा विराजमान है और एक दाहिनी सूंड है, कौलुरु, मंदिर में एक गुंबद और एक स्वर्ण मुकुट है, ताज पर एक कोबरा है।
मंदिर के चारो तरह हांथी की प्रतिमाओ को उकेरा गया है, मंदिर का डोम भीस्वर्ण शिखर के साथ 25 फीट ऊँचा है। मंदिर के उत्तरी भाग पर गौमुख देखने मिलता है, जो पवित्र नदी के बहाव के साथ बहता है, मंदिर के पश्चिमी भाग में एक पवित्र तालाब बना हुआ है।
varad vinayak temple
 image loaded by https://www.tripadvisor.in



मंदिर सन,1725 में पेशवा काल के दौरान बनाया गया था, गणेश यहां वरदविनायक (समृद्धि और सफलता के दाता) के रूप में निवास करते थे, यह मूर्ति स्वयंभू है और 1690 में यहां एक झील में ढोंदू पौधकर ने पाया था,

1725 में, कल्याण के सूबेदार, रामजी महादेव भीवलकर ने यहां एक मंदिर बनाया और महाद गांव की स्थापना भी की, इस मंदिर के चारों तरफ चार हाथियों की मूर्तियाँ हैं, कहा जाता है कि 1892 से लगातार दीपक जलाया जाता है, जो पूर्व की ओर की मूर्ति के बगल में है।

कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे