Breaking News

बिहार की जनता वोट करने से पहले इतना जरूर पढ़े

आज बात करते है नरेन्द्र मोदी के कार्यकाल की,विपक्ष और कुछ विपक्ष समर्थक सोश्यल मिडिया पर नरेन्द्र मोदी के लिए अपप्रचार करते रहते है की नरेन्द्र मोदी सिर्फ ख्वाब दिखते है काम कुछ नहीं करते,जो सरासर जुठ है आज महारष्ट्र जागरण आपको 2014 से लेकर अब तक के बड़े काम दिखाने का प्रयत्न कर रहे है,जिसे ध्यान से पढ़ना चाहिए ख़ास कर उन लोगो को जो चाहते हो की देश विकास करे,


नरेन्द्र मोदी की सरकार के काम 


-देशका पहला १४-लेन राजमार्ग "दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे" मात्र १६ महिनों में पूर्ण कर दिया मोदी सरकार ने।
-देश का सबसे बड़ा "सरदार सरोवर बांध" को सफलता पूर्ण संपूर्ण कराया, जिसे लौह पुरुष पटेल के नाम से बनने के कारण ६५ वर्षों से अटकाया गया था।
-देश का सबसे लम्बा "भूपेंद्र हजारिका सेतु" ९.१५ किलोमीटर को बना कर पूरा किया, जिसे पिछली सरकारने चीन के डर से रोक रखा था।
-देश की सबसे लम्बी "चनानी-नौशेरा सुरंग" बना कर पूरी की, जिसे पिछली सरकार ने अटका रखा था।
-विश्व की सबसे ऊंची रेल्वे ब्रिज चिनाब नदी पर बनाई, जिसका काम २००८ से रोका गया था।
-"वन रेंक, वन पेंशन" सेना को उसका हक दिलवाया, हर वर्ष ४०,००० करोड. जिसे पिछली सरकार ४५ वर्षों से छल रही थी।
-"किसान सम्मान निधि योजना" के तहत, १२ करोड़ सिनियर सिटिजन छोटे सीमान्त किसानों को ६ हजार रुपए पेन्शन की व्यवस्था की गई थी! आजादी के बाद, पहली बार अन्नदाता के लिये पेन्शन योजना लागू की।
-२०१४ से पहले मात्र तीन शहरों में मेट्रो आम जनता के लिये चलता था, और २०१४ से २०१९ के बीच मुम्बई, -चेन्नई, जयपूर, कोच्चि, हैदराबाद, लखनऊ, अहमदाबाद, नागपूर, में भी मेट्रो ट्रेन जनता के लिये बनाकर खोल दिये गये हैं।
-मेट्रो ट्रेन का रुट २०१४ में २५० किलोमीटर था, अब २०१९ में ६५० किलोमीटर है! मोदी सरकार ने ५ वर्षों में ४०० किलोमीटर के रुट बना के पूर्ण कर दिए।
-मोदी सरकार ने आंबेडकर जी को दिया गया सम्मान चार वर्ष में ही पूर्ण करवाया! महू में "जन्मभूमि", नागपूर में "दीक्षाभूमि", मुम्बई में "चैत्यभूमि", को ऊंचा दर्जा, दिल्ली में "कर्मभूमि", लंदन में "बाबासाहेब स्मारक" बनवाए हैं। मुम्बई में एक भव्य स्मारक की नींव रखी।
-देश कि प्रथम "जल मार्ग" गंगा नदी (बनारस से हल्दीया के मध्य) में बनाया! वह भी ४ वर्षों में शुरू भी हो गया।
-भरुच जिले में नर्मदा नदी पर देश का सबसे लम्बा "एक्स्ट्रा डाज्ड केबल ब्रिज" का निर्माण पूर्ण किया।
-देश का सबसे बडा "सोलर प्लांट" ७५ मेगावॉट का मिर्जापुर, उत्तर प्रदेश में पूर्ण हुआ।
-विश्व की सबसे उंची मूर्ति "स्टेच्यू ऑफ यूनिटी" सरदार पटेल का निर्माण समय बध्यता से पूर्ण हुआ! एक वर्ष के १०० करोड के तिकट बिकते हैं।
-ग्रामीण, शहर, गांवों में बिजली ७०% थी २०१४ में; अब ९५% हैं २०१९ में।
-नेशनल हाइवे १९४७ मे २१,००० किलोमीटर थे, और ६५ वर्षों मे बढ़ कर २०१४ में मात्र ९१,२५८ किलोमीटर हुए; अब २०१९ में १,७१,३२६ किलोमीटर हो गए हैं - ६८% से अधिक की वृद्धि हो गयी है।
-देश कि पहली न्यूक्लिअर सबमरीन २०१६ में नौसेना में शामिल की। ऐसा करने वाला भारत विश्व का छट्ठा देश बना, और ६ नये सबमरीन खरीदने के समझौतों पर हस्ताक्षर किए।
-२०१४ तक १३ करोड़ वैलिड गैस कनेक्शन थे, अर्थात ५५% घरों में गैस थी! अब २०१९ तक २५ करोड़ हो गई - ९०% घरों तक हो गई।
-चेन्नई का "इंटिग्रल कोच फ्रेक्ट्री" रेल्वे की विश्व की सबसे बड़ी रेल फेक्टरी बनी! चीन को पछाड कर, बना नं.१ - रिकार्ड २,९१९ कोच के निर्माण किए ।
-नासा ने सेटेलाईट पिक्चर के आधार पर अपने रिपोर्ट में बताया है कि कुछ वर्षों से भारत और चीन ही विश्व को सबसे अधिक हराभरा बनाया, अर्थात विकास के साथ पर्यावरण का भी ध्यान रखा।
-ढाई वर्षों में ही ५० वर्ष पुरानी मांग २२,६०० बलिदानियों के सम्मान मे "नेशनल वॉर मेमोरियल" बनाए गए।
-भारतीय पुंजी निवेश दुगना हो गया! २०१३ मे १ ट्रिलियन डॉलर्स था; अब २०१८ में २ ट्रिलियन डॉलर्स हो गया है।
-२०१४ में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश ३० हजार मिलियन डॉलर्स था; अब २०१८ में १३६ हजार मिलियन डॉलर्स हो गया है ! ४५०% वृद्धी हो गई।
-२०१४ में ग्रामीण सडक से जुडी बस्ती मात्र ५५% थी; अब २०१९ मे ९१% हो गयी है।
-ग्रामीण क्षेत्रों मे शौचालय २०१४ में ३८% थे; अब २०१८ मे बढ़कर ९५% हो गए हैं।
-देश की सबसे बड़ी "गैस वितरण योजना" का लोकार्पण किया! ४०० जिल्हों को नेटवर्क से जोडा है।
-भारत का सबसे लम्बा ४.९ किलोमीटर की रेल-सह सडक-पूल डिब्रुगढ (असम) में बौगिबेल पूर्ण कराया, जिसे २००२ मे अटल सरकार ने शुरू किया था, और कांग्रेस कि सरकार ने, चीन का डर से, रोक रखा था, उसे मोदी सरकार ने अब सफलता से पूर्ण करा दिया है।
-१९९८ में अटल सरकारने "सुखोई लडाकु विमान" खरीदा था, और काँग्रेस के दस वर्षों के शासन में एक भी नहीं खरीदा! कहते थे "पैसे पेड पे नहीं उगते हैं"! और अब मोदी सरकार ने फ्रांस से ३६ राफेल लडाकु विमान पहली ही किश्त में खरीदे हैं।
-पिछली सभी काँग्रेस कि सरकारों ने कुल ५२ सेटेलाईट लाँच किये थे; मोदी सरकार ने ५ वर्षों में अबतक देशी-विदेशी २७० सेटेलाईट लाँच कर चुके हैं।
-अमेठी "ऊँचाहार रेल्वे लाईन" जिसका वादा इंदिरा, राजीव, सोनिया, राहुल ने किया था, उसे मोदी सरकार ने पूरा किया।
-१२,००० हार्स पावर का दमदार इंजिन मोदी सरकार ने बनाया! पहले सिर्फ ६,००० हार्स पावर का रेल इंजिन बनता था।
-१९८८ तक भारतीय रेल कि सबसे तेज ट्रेन "शताब्दी एक्सप्रेस" १५० किलोमीटर प्रति घण्टा की गति तक चलती धी, और २६ वर्षों तक उसे पिछली सरकार नहीं बढ़ा पा रही थी! मोदी सरकार ने टी-१८ ट्रेन को १८० किलोमीटर त्प्रति घण्टा कि तेज गति से चलाकर दिखा दिया।
-मोदी सरकार ने १.१९ लाख गाँव ग्राम पंचायतों को "ऑप्टिक फायबर" (इंटरनेट)से जोडा है
-उजाला योजना से ३१ करोड LED बल्ब को सस्ते दर में वितरण किया।
-"प्रधान मंत्री सडक योजना" से अबतक १.८० लाख किलोमीटर सडक बन चुकी हैं! मोदी सरकार का काम बोलताहै।
-देश का पहला "रेल विश्वविद्यालय" वडोदरा मे बन कर तैयार हो गया! ऐसा करने वाला भारत विश्व का तिसरा देश बना।
-१९८० से भारतीय सेना कि आवश्यकता और मांग: देश कि पहली गहन जलमग्न बचाव वाहन (DSRV - Deep Sea Rescue Vessel) नौ सेना को मिला २०१८ में।
-२०वर्ष बाद विदेशी निवेश २०१८ में चीन से अधिक हुआ, मोदी सरकार की सफल विदेश नीति के कारण हुआ, भारत में ३८ बिलियन डॉलर्स और चीन में ३२ बिलियन डॉलर्स।
-"बोफोर्स घोटाला" उजागर होने से सेना की आवश्यकताओं को फाइल में लटकाया! और ३० वर्षों के बाद, सेना को कम वजन के "हाविज्वर" तोप मिले।
-"जन-धन योजना" से अब तक ३१.३१ करोड़ गरीबों का बैंक में खाता खुला है! एक माह में १८ करोड़ खाते खुलने का विश्व रिकार्ड है।
-"उज्ज्वला योजना" में ग्रामीण गरीब महिलाओं को LPG गैस दिया रहा है! अब तक ७ करोड़ से अधिक नागरीक लाभ उठा चुके हैं।
-"मुद्रा योजना" लागू की! इसमें लघु (छोटे) उद्योंगों को १० लाख रुपए का लोन (ऋण) दिया जाता है! अब तक लोन १२ करोड नागरीकों को दिया गया! पिछली सरकार तो केवल विजय माल्या, नीरव मोदी, मेहुल चौकसी, जिंदल, जयप्रकाश ग्रुप, जैसे बडे उद्योगपतियों को ही मिलता था।
-एशिया की सबसे लम्बी सुरँग "जोजीला-लेह-कारगिल" (लदाख) में बनाई जा रही है, जो कि सेना के लिये अति आवश्यक है, जिसे पकिस्तान, चीन और आतंकियों के डर से नहीं बनने दिया जा रहा था।
-"किशनगंगा हायड्रोपावर" प्रकल्प (३३० मेगावॉट) पूर्ण कराया, जिसे पिछली सरकार १९६० से पकिस्तान के डर से, या प्रेम से, या पाक प्रेमियों के वोट बैंक की नाराजगी के कारण अट्काया जा रहा था।
-"कृषी भूमी हेल्थ कार्ड योजना" लागू किया गया है! इसमें मिट्टी-जमीन कि जांच करके किसानों को कौनसी खेती करना चाहिए, और कितने खाद का उपयोग करने संबंधी जानकारी निःशुल्क में दी जाती है।
-"फसल बीमा योजना" में पहले ५०% नुकसान पे बीमा मिलता था; अब किसान को ३३% पर भी मिल जाता -युरिया को "नीम कोटेड" करके काला-बाजारी समाप्त करवाई! अब देश में युरिया की कोई कमी नहीं है।
-युनिवर्सल अकाउंट नम्बर UAI से करोडों श्रमिकोंको EPF खाता खौलना और फंड ट्रान्सफर करना आसान किया! इससे भ्रष्टाचार को रोकना, और श्रमिकों के हितों की सुरक्षा करने का प्रावधान है।
-"मेक इन इंडिया" के कारण विश्व का दुसरा मोबाईल उत्पादक अपना देश बना! २०१३-१४ में ३% उत्पादन होता था, अब ११% होता है! भारत में २०१३ तक ३ मोबाइल कंपनी थी। अब १०४ हुई।
-२०१३-१४ में सौर ऊर्जा उत्पादन ३,३५० GWS होता था, अब २५,८७२ Gws होता है - लगभग आठ गुना वृद्धी, और अब विश्व में दूसरा स्थान है।
-बिजली उत्पादन २०१३-१४ से अब तक ४०% अधिक हो रहा है! रुस को पछाड कर भारत का विश्व में तिसरा स्थान है।
-"प्रधान मंत्री आवास योजना" - ४ वर्षों में १,५०,००,००० (एक करोड, पचास लाख) गरीबों के लिये बनाया। पिछले ६५ वर्षों का कुल योग मात्र ७७ लाख थे और २०२२ तक पूरे २ करोड घर बनाने का वादा है मोदी सरकार का।
-"प्रधान मंत्री सुरक्षा बीमा योजना" - एक रुपया महिने में दो लाख का विश्व का सबसे सस्ता बीमा। आज इसके १५ करोड़ से अधिक लाभार्थी है।
-लाखों स्कूलोंमें और दफ्तरोंमे माता, बहनों, गरीबों के लिये ११ करोड़ शौचालय बनाए।
-२०१४ में भारतीय रेलवे स्टेशनों पर एस्कलेटर (ऑटोमेटिक सीढ़ियों) कि संख्या १९९ थी, और अब २०१९ में ६०३ हो गई है।
-२०१४ में भारतीय रेल स्टेशनोंपर लिफ्ट मात्र ९७ थी, और २०१९ मे लिफ्ट अब ४४५ हो गई है।
-८,९४८ मानव-रहित लेवल क्रॉसिंग को मोदी सरकार ने हटाया, जो रेलवे में दुर्घटनाओं का मुख्य कारण था, जिसका वादा पिछले ४० वर्षों से सभी सरकारैं करती आ रही थी।
-२००४-२०१४ (१० वर्ष) की कालावधीमें भारतीय रेल ने मात्र ४१३ रेल रोड ब्रिज और अंडर ब्रिज का निर्माण किया। और २०१४-२०१९ (५ वर्षों) की कालावधीमें १,२२० ब्रिजिस का निर्माण पूर्ण हुआ - लगभग तीन गुना वृद्धी।
-मोदीने ५ वर्षों में ११८ नये मेडिकल कालेज खोले हैं। PG के १५,००० सीटें और MBBS के १८,६४३ सीटें बढ़ गई हैं।
-२०१३-१४ देश के बजट में कुल आय में कर्ज २५% लिया जाता था, और व्यय खर्च में ब्याज कि देनदारी का हिस्सा २४% था! २०१८-१९ में बजट में टोटल आय में कर्ज का हिस्सा १९% और व्यय खर्च में ब्याज का हिस्सा १८% है। इतने कम समय में, इतना कम लोन करने, देश के अन्य प्रधान मंत्रियों को तो छोड़ो, विश्व के किसी भी नेता का रिकार्ड इतना दर्शनीय नहीं है।
-मोदी सरकार के कार्यकाल में राजकोषीय घाटा औसत ३.४% और राजस्व घाटा २.२% है, पिछली सरकार के औसत से ३०% कम है। बजट घाटा इतना कम किसी और किसी प्रधान मंत्री ने कभी नहीं किया है।
-पहली बार लोकपाल कि मांग १९६७ मे उठी थी। इंदिरा ने १९७१ में और राजीव ने १९८५ में संसद में बिल पेश किए। और दो तिहाई से अधिक बहुमत होते हुये भी, लटका दिया। और अब ५२ वर्षों के बाद, मोदी सरकार ने प्रथम लोकपाल पिनाकी चंद्रघोष की नियुक्ति कर दी है।
-मोदी सरकार ने अब तक १५०० से अधिक निरर्थक, अप्रचलित, पुराने कानून को रद्द कर दिए है, जो आज के प्रशासन के लिये सरदर्द थे। और १६०० पुराने विधेयक (कानून) को भी रद्द करने के लिये चिन्हित किया है। पिछले ६५ वर्षों में मात्र १३०१ पुराने कानून रद्द किए गए थे।
-बुलेट ट्रेन का मुम्बई और अहमदाबाद के मध्यमें काम चालू है। और १ लाख करोड़ रुपए जपान लगा रहा हैं! इतनी दरियादिली किसी और देश या प्रोजेक्ट में अब तक नहीं दिखाई दिया है। मोदी जी की कूटनीति और फ्रेंडली विदेशनीति का परिणाम है! एक वर्ष के पश्चात ही ब्याज दर लगना आरंभ होगा।
-केंद्रीय कर्मचारियों क़े ग्रेड ३ और ४ के इंटरव्यू समाप्त किए। भर्तीमें भ्रष्टाचारपर रोक और प्रमाणपत्र क़े फोटो कापी में स्वप्रमाणित नियम बनाया! छात्रों को अधिकारियों क़े चक्कर लगाने से छूट मिल गई।
-जेनेरिक (जनऔषधी) दवा केन्द्र २०१४ तक मात्र ८० थे; अब ५,००० से अधिक स्थापित हैं। यहां ७०% तक सस्ती दवाइयां मिलती हैं! हार्ट क़े स्टेंट मे ८०% दाम में कमी आई।
-२०१३ में प्रति व्यक्ती आय ८६,६४७ रुपए से ५ वर्षो में बढ़कर १,२५,३६७ रूपए, यानि ४५% वृद्धी हुई है।
-"स्टेंडर्डस एंड पुअर" (S&P) विश्व विख्यात रेटिंग एजेंसी ने १० वर्षों के बाद भारत कि रेकिन्ग में सुधार किया - पहली बार BBB किया - २०१७ में यह रेटिंग देश कि अर्थव्यवस्था, मजबुती और सुधार को प्रदर्शित करता है।
-"मुडीस" विश्वविख्यात रेटिंग देने वाली एजेंसी ने २००४ के बाद २०१७ में पहली BAA2 किया - ये देश कि अर्थव्यवस्था में सकारात्मक सुधार और विकास के लिये दिया गया है।
-विश्व बैंक ने व्यापर में सूगमता (Easy of doing business) में भारत कि रेन्किन्ग २०१४ में १३४ थी, अब २०१८ में सुधार हो के ७७ हो गयी है - यह मोदी सरकार के व्यापर में सरकारी हस्तक्षेप, बाधा-भ्रष्टाचार कम होने के लिये हुआ है।
-संयुक्त राष्ट्रसंघ (UN) ने मोदीजी को सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान "चेम्पियन् आफ द अर्थ, २०१८" दिया है, जो कि मोदी जी द्वारा १२१ देशों को साथ लाकर बनाए गए आंतराष्ट्रीय सौर गठबन्धन के लिये और सौर ऊर्जा उत्पादन बढ़ाने के लिये सम्मानित करते हुए दिया गया है।
-आंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) कि रिपोर्ट २०१७ में कहा गया है कि भारत की विश्व की सबसे तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था है, और पिछले तीन वर्षों में बड़ी अर्थव्यवस्थाओं की क्षमता रखने वाले देशों मेंं से सबसे कम कर्ज लिया है।
-प्रतिस्पर्धी अर्थव्यवस्था वाले देशों में अब भारत कि रेन्किन्ग ५८ है, जो कि २०१४ में ७१ थी - १३ देशों को पीछे छोड दिया है! देश में स्वस्थ प्रतियोगी बिजनेस का वातावरण बनाया गया है।
-संयुक्त राष्ट्रसंघ UN रिपोर्ट २०१७ में कहा गया है देश में पाँच से कम उम्र के बच्चो कि मृत्यु में २५% कि कमी हुई है, जो कि खाद्यसुरक्षा, साफ पानी, शौचालय निर्माण और स्वच्छता अभियान के कारण हुआ है।
-आंतराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संस्था २०१७ की रिपोर्ट में कहा गया कि भारत विश्व का सबसे तेजी से बढ़ता विमानक बाजार निर्माण केंद्र बन गया है।
-देश के स्टील उत्पादन में बढ़ोतरी हुई और पहली बार जापान को पीछे छोड कर भारतने विश्व में दूसरा स्थान मिला है।
-आज देश में चीनी उत्पादन में इतनी बढ़ोतरी हुई है की हमने विश्व में पहले स्थान पर होनेवाले ब्राजील को भी पछाडा है।
-ऑटोमोबाईल बाजारमें इतनी वृद्धी हुई है की, आज अपना देश जर्मनी को पछाडकर चौथे स्थान पर है।
-मोदीजीके अपीलपर देशके १ करोड़ १५ लाख नागरीकों ने गैस सबसिडी छोड दी! ये भी एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।
-सन २०१३-१४ में केवल ३.८ करोड़ नागरीकों ने इन्कम टेक्स रिटर्न जमा किया था।
-सन २०१७-१८ में ६.८६ करोड़ नागरीकों ने इन्कम टेक्स रिटर्न जमा किया, जो कि २०१३-१४ से ८०% अधिक नागरीकों ने सालाना २.५ रुपए कमाय है, जबकि २ लाख रुपए कमानेवालोंसे तुलना करें तो १२०% अधिक होगा।
यदि इसी प्रकार ४-५ वर्षोंमें ८०-१२०% कि बढ़ोतरी प्रत्येक सरकार १९४७ से करती, तो हमारा देश इस समय किस ऊँचाइयों और बुलन्दियों पे होता, इसकी केवल कल्पना ही की जा सकती है,
-कश्मीर से धरा 370 और 35A को रद्द करा,
-तीन तलाक बंद करा,
-400 साल से लटका सबसे बड़ा मुद्दा अयोद्ध्या राम मंदिर का फैसला बिलकुल शांतिपूर्ण तरीके से करा,
आज मोदी सरकार के राज में सबसे अधिक सड़के बनी और आज भी बन रही है,
-हिन्दू आस्था माँ गंगा नदी को प्रदुषण मुक्त करा,
-भारतीय सैन्य को मजबूत बनाया,अनेक सश्त्र ख़रीदे गए,राफेल जैसा फाइटर 30 साल के बाद मोदी जी ले आये,
-135 करोड़ की आबादी वाले देश को कोरोना जैसी महा मारी के सामने लड़ने तैयार करा, दुनिया के विकसित देशो की तुलना में सबसे अच्छा पर्फोमन्स करा भारत सरकार ने, यह who  कहा ,
- भ्रष्टाचार में कमी यह भी एक  उत्तम कार्य है 


आगे भी बहोत काम करने है 

जैसे की CAA,रोहिंगियां मुसलमानो को भगना,एक देश एक कानून, POK को वापिस लेना,ऐसे अनेक काम आज भी बाकी है जिसे मोदी जैसे नेता ही कर सकते है,बिहार की जनता से  निवेदन है की यह मुद्दों को ज़रूर देखे कांग्रेस के 60 साल और मोदी के 6 साल की तुलना करे और अपना  वोट करे, 
राजयसभा में बीजेपी और साथी दलो  को मजबूत करना है तो राज्यमे भी उनको ज्यादा से ज्यादा सीटों पर जितना जरुरी है 
बीजेपी एनडीए कार्यकर्ता पढ़े और इसे 5 व्यक्ति तक अवश्य पहुंचाए ,

कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे