Breaking News

सुंदरकाण्ड का यह विशेष महत्व सभी हिन्दू धर्मी को जानना चाहिए

हिन्दू धर्म में जितने लोकप्रिय भगवान् गणेश जी है उतने लोक प्रिय हनुमानजी भी है, छोटे बड़े सभी लोग जिन्हे किसीभी तरह की समस्या होती है हनुमानजी को प्रसन्न करने और अपने कष्ट दूर करने प्रार्थना अवश्य करता है,और हनुमानजी को खुश करने का सबसे बढ़िया उपाय है हनुमानजी का सुंदरकाण्ड, सुंदरकाण्ड का क्या महत्व है हिन्दू धर्म में उसके बारे में सभी हिन्दू धर्मी को जानना चाहिए, 

hanuman ji image loaded by

सुंदरकाण्ड नाम क्यों रखा गया?

हनुमानजी जब सीताजी की खोज में लंका गए थे तब की बात करे तो तभी रावण की लंका त्रिकुटांचल पर्वत पर बसी हुई थी, त्रिकुटांचल पर्वत इसीलिए कहते थे क्यूंकि यह  3 पर्वत का समूह था,

सुबैल नामक पर्वत जहां के मैदान में युद्ध हुआ था,नील पर्वत नामक जहां राक्षसों के महल बसे हुए थे, तीसरा सुंदर पर्वत जहां अशोक वाटिका थी, जिसमे सीता माता को रखा गया था, इसी वाटिका में हनुमानजी की भेट माता  सीताजी से हुई थी, घटना यानि काण्ड और लंका काण्ड की अहम् यानी प्रमुख घटना है हनुमानजी का माता सीता का दर्शन करना उनसे भेट करना, जो घटना यानी काण्ड सुंदर नमक पर्वत पर हुई इसीलिए इसे सुंदरकाण्ड नाम दिया गया,

इन परिस्थितियों में सुंदरकाण्ड के पाठ करने चाहिए 

कहा जाता है की गोस्वामी तुलसीदास जी द्वारा रचित श्रीरामचरितमानस के सुंदरकाण्ड का पाठ शुभ कार्यों की शुरूआत से पहले एवं किसी व्यक्ति के जीवन में ज्यादा परेशानियाँ हों, कोई काम नहीं बन पा रहा हो, आत्मविश्वास की कमी हो या कोई और समस्या हो, सुंदरकाण्ड के पाठ से शुभ फल प्राप्त होने लग जाते हैं, 

सुंदरकाण्ड का पाठ विषेश रूप से क्यों किया जाता है?

माना जाता हैं कि सुंदरकाण्ड के पाठ से हनुमानजी जल्द ही प्रसन्न होते हैं और उनकी  कृपा बहुत ही जल्द प्राप्त होती है, जो लोग नियमित रूप से सुंदरकाण्ड का पाठ करते हैं, उनके सभी दुखः दुर हो जाते हैं, इस काण्ड में हनुमानजी ने अपनी बुद्धि और बल से सीता माता की खोज की है उसका वर्णन है ।

सुंदरकाण्ड का मनोवैज्ञानिक लाभ?

वास्तव में श्रीरामचरितमानस भगवान श्रीराम के गुणों और उनके पुरूषार्थ को दर्शाती है, मनोवैज्ञानिक नजरिए से देखा जाए तो यह आत्मविश्वास और इच्छाशक्ति बढ़ाने वाला काण्ड है, सुंदरकाण्ड के पाठ से व्यक्ति को मानसिक शक्ति प्राप्त होती है, किसी भी कार्य को पूर्ण करने के लिए आत्मविश्वास मिलता है।

सुंदरकाण्ड से मिलता है धार्मिक लाभ?

हनुमानजी की पूजा सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाली मानी गई है, बजरंगबली बहुत जल्दी प्रसन्न होने वाले देवता हैं क्यूंकि वह दयालु है, शास्त्रों में इनकी कृपा पाने के कई उपाय बताए गए हैं, इन्हीं उपायों में से एक उपाय सुंदरकाण्ड का पाठ करना है, सुंदरकाण्ड के पाठ से हनुमानजी के साथ ही श्रीराम की भी विशेष कृपा प्राप्त होती है।

जीवन को स्वस्थ सुन्दर और परेशानी मुक्त रखना है तो सुंदरकाण्ड के पाठ नियमित रूप से करे, यह एक श्रेष्ठ और सरल उपाय है, 

पवनपुत्र हनुमानजी महाराज की जय हो,


कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे