Breaking News

नवदुर्गा का नौ वां स्वरुप माँ सिद्धिदात्री का मंत्र-कथा


नवरात्री का आखरी दिन यानी नौ वां दिन यानि नवदुर्गा का नौ वां स्वरुप माता सिद्धिदात्री की आराधना, सभी तरह सिद्धि देनेवाली माता यानी सिद्धिदात्री माँ, शास्त्रीय विधि-विधान और पूर्ण निष्ठा के साथ साधना करने वाले साधक को सभी सिद्धियों की प्राप्ति हो जाती है। 
maa sidhdhidatri
image loaded by https://sharechat.com


माँ सिद्धिदात्री का मंत्र 

सिद्ध गन्धर्व यक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि।                                                                                                            सेव्यमाना सदा भूयाात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी।।

 ग्रंथ एवं पुराणों के अनुसार माँ सिद्धिदात्री कथा 

माना जाता है कि इनकी पूजा करने से बाकी देवीयों कि उपासना भी स्वंय हो जाती है, कहा जाता हैं भगवान शिव ने भी सिद्धिदात्री देवी की कृपा से यह तमाम सिद्धियां प्राप्त की थी, सिद्धिदात्री देवी की कृपा से ही शिव जी का आधा शरीर देवी का हुआ था, इसी कारण शिव अर्द्धनारीश्वर नाम से प्रसिद्ध हुए।

इसे भी पढ़े >>> >>>>  नवदुर्गा का आठवां स्वरुप माता महागौरी का मंत्र-कथा

माँ सिद्धिदात्री देवी सर्व सिद्धियां प्रदान करने वाली देवी हैं, अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व और वशित्व आठ सिद्धियां होती हैं, इसलिए इस देवी की सच्चे मन से विधि विधान से उपासना-आराधना करने से यह सभी सिद्धियां प्राप्त की जा सकती हैं

माँ सिद्धिदात्री शक्तिपीठ स्थल 

फ़िरोज़ गांधी नगर, जवाहर विहार कॉलोनी, रायबरेली ,मध्यप्रदेश- 229010 



कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे