Breaking News

महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष एवं राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात क्यों इस्तीफा देना चाहते है ?


महाराष्ट्र महाविकास अघाड़ी सरकार के मंत्री और राज्य के कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष बालासाहेब थोरात के राज्यके कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफे की खबर ने जोर पकड़ा है, बालासाहेब थोरात ने अपने इस्तीफे की खबर पर कहा कि हमारे पास मंत्री पद सहित 3 महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां हैं इसलिए, थोराट ने कहा कि उन्होंने पार्टी नेताओं से बात करके प्रदेश अध्यक्ष का पद छोड़ने की तत्परता दिखाई है।

balasaheb thorat
 image loaded by httsp://marathi.abplive.com

महाराष्ट्र राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है वह खबर पर उन्होंने कहा हम नहीं जानते कि इस तरह की खबरें कहां से आई हैं, थोराट ने कहा है कि उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा नहीं दिया है, 

थोरात ने आगे कहा की उनके पास राज्य सरकार के मंत्रालय सहित 3 महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां हैं। इसलिए  उन्होंने पार्टी नेताओं से बात करके प्रदेश अध्यक्ष का पद छोड़ने की तत्परता दिखाई है,उनका कहना है की पार्टी के संगठन को मजबूत करने अब  "युवा नेता को मौका दें और हम उसके पीछे मजबूती से खड़े होंगे,", इस बीच, थोराट ने कहा कि वह यह नहीं कह सकते कि राज्य के अध्यक्ष पद के लिए कौन सा चेहरा होगा,क्यूंकि उसका निर्णय पार्टी हाईकमान को करना होता है,

Read>>> DGP के काम में महाराष्ट्र राज्य सरकार का हस्तक्षेप- ट्रांसफर के लिए मजबूर सुबोध जायसवाल-देवेंद्र फडणवीस

खबर ऐसी भी आयी थी की कांग्रेस महाराष्ट्र प्रभारी एच.पि पाटिल से बालासाहेब थोराट नाराज हैं इसके चलते  बालासाहेब थोराट प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे है, जिस पर थोरात ने कहा की उनकी किसी से भी नाराजगी नहीं है,

बालासाहेब थोरात दिल्ली के 2 दिवसीय दौरे पर थे उस दौरान कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात करि  और विचार-विमर्श करा,उनका कहना है की वह मंत्री पद सम्हालते हुए अध्यक्ष पद कार्य केलिए समय  निकलना मुश्किल हो रहा है इसलिए प्रदेश अध्यक्ष के पद पर किसी और पार्टी सदस्य की निमणुक हो  वह पार्टी के लिए ज्यादा बहेतर होगा और इसी बात को लेकर वह चर्चा करने दिल्ली गए थे 

वर्तमान में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस के नेता सुनील केदार, विजय वडेट्टीवार और यशोमति ठाकुर के नामों पर चर्चा हो रही है। इसके अलावा, नाना पटोले, राजीव सातव और पृथ्वीराज चव्हाण, राष्ट्रीय स्तर पर राज्य के नेताओं के नामों की भी चर्चा की जा रही है।

कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे