Breaking News

दिल्ही में राम मंदिर चंदा मांगने पर शान्ति दूतो ने घर में घुसकर रिंकू शर्मा की निर्मम हत्या करि- इस्लाम, दानिश, दिलशान और दिलशाद गिरफ्तार


रिंकू के पिता का कहना है की पहले भी भगवान राम को लेकर विवाद हुआ था। वे लोग मोदी को गाली देते थे। हमने तब समझौता कर लिया था। लेकिन इस बार उनके हाथ में लाठियाँ थीं, चाकू थे, वे सिलेंडर खोल रहे थे।जिसका मतलब साफ़ है की वह लोग रिंकू शर्मा और पुरे परिवार को ज़िंदा जलाने के लिए ही आये थे,







दिल्ली के मंगोलपुरी इलाके में बजरंग दल कार्यकर्ता रिंकू शर्मा की निर्मम  हत्या होने के बाद से तनाव है। कथित तौर पर 25-30 लोगों के समूह ने बुधवार (10 फरवरी 2021) को घर में घुसकर 26 वर्षीय रिंकू शर्मा पर हमला किया। वे अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए चलाए जा रहे धन संग्रह अभियान में सक्रिय थे।

रिपोर्टों के अनुसार पुलिस ने इस मामले में चार आरोपिओ को गिरफ्तार किया है। इनकी पहचान मोहम्मद इस्लाम, दानिश नसीरुद्दीन, दिलशान और दिलशाद इस्लाम के तौर पर हुई है।


दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार  रिंकू शर्मा पश्चिम विहार स्थित एक अस्पताल में बतौर लैब टेक्नीशियन काम करते थे और उनका पूरा परिवार बजरंग दल से जुड़ा था। रिंकू के परिवार में मॉं राधा देवी, पिता अजय शर्मा और भाई अंकित एवं मनु हैं।

देखे विडिओ >>> कैसे रिंकू के घर को जलाने की कोशिश करि और रिंकू की हत्या करि 


सोशल मीडिया में रिंकू के पिता का रोते-बिलखते वीडियो भी आया है। वीडियो में वे बता रहे हैं कि किस बर्बरता से उनके बड़े बेटे को मारा गया। साथ ही उनके छोटे बेटे पर भी हमला हुआ। रिंकू के पिता कहते हैं कि अचानक गेट खोलने के लिए आवाज आई और जैसे ही उनका छोटा बेटा गेट खोलने गया, सामने से 25-30 लोग आए। उन सबके हाथ में लाठियाँ थी। मेरे छोटे बच्चे को भी मारा। फिर वो घर में घुस गए। रिंकू किसी तरह बाहर भागा… थोड़ी देर बाद वे गेट पर लाठी बजाकर गए कि मार दिया, जा बचा ले अपने बच्चे को। पीछे से एक महिला ने बताया कि रिंकू को चाकू मार दिया है।

रिपोर्ट के अनुसार बीते महीने इलाके में राम मंदिर निर्माण को लेकर एक जागरुकता रैली निकाली गई थी। उस दौरान रिंकू का विवाद हो गया था। उस समय स्थानीय लोगों के हस्तक्षेप से मामला खत्म हो गया था। बुधवार को फिर विवाद हुआ तो उसी रात उसके घर में घुसकर हमला किया गया।

हमलावरों के जाने के बाद लोग रिंकू को संजय गाँधी अस्पताल ले गए। इलाज के दौरान गुरुवार दोपहर उन्होंने दम तोड़ दिया।

सवाल यह है की हिन्दुस्तान में हिन्दू को राम का नाम लेने का अधिकार नहीं है ? राहुल गांधी ,प्रियंका गांधी,दिल्ही के मुख्यमंत्री और उनकी पार्टी के लोग अक्सर दलित और मुस्लिम की इस तरह हत्या होती है तो हंगामा मचाते है, आर्थिक सहाय करने दौड़ जाते है तो रिंकू की हत्या पर क्यों चुप है ?






कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे