Breaking News

BMC ने किया COVID 19 से मौत की आँकड़ों में हेरफेर, PR एजेंसीज-सेलिब्रिटीज चला रहे फेक नैरेटिव: देवेंद्र फडणवीस

महाराष्ट्र विपक्ष के नेता देवेन्द्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर बृहन्मुंबई महानगर पालिका (BMC) द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण के आँकड़ों में हेरफेर करने का आरोप लगाया है साथ ही यह भी कहा है कि सरकार द्वारा पीआर एजेंसियों और सेलिब्रिटीज के माध्यम से मुंबई में संक्रमण में होने का झूठा नैरेटिव चलाया जा रहा है।

CM उद्धव ठाकरे Vs देवेन्द्र फडणवीस
], साभार https://www.mid-day.com

देवेन्द्र फडणवीस ने BMC और महाराष्ट्र की महाविकास अघाड़ी सरकार पर यह आरोप लगाया कि मुंबई में कोरोना वायरस के संक्रमण और उससे हुई मौतों के सही आँकड़े नहीं दिए जा रहे हैं। फडणवीस ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण से हुई मौतों को ‘अन्य कारणों से हुई मौतों’ की श्रेणी में रखा जा रहा है जिससे संक्रमण की मृत्यु दर (CFR) कम दिखाई दे।  

इसके अलावा अपने तीन पन्नों के पत्र में देवेन्द्र फडणवीस ने यह भी आरोप लगाया है कि सरकार पीआर एजेंसियों और सेलिब्रिटीज की सहायता से कोरोना वायरस संक्रमण के नियंत्रण में होने का नैरेटिव चला रही है।


मुंबई और महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण की मृत्यु दर (CFR) पर आँकड़े देते हुए देवेन्द्र फडणवीस ने बताया कि संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान जब शेष महाराष्ट्र में दूसरे कारणों से हुई मौतों की दर 0.7% है वही मुंबई में यह 34.9% है। यहाँ तक की संक्रमण की पहली लहर के दौरान जब महाराष्ट्र में दूसरे कारणों से हुई मौतों की दर 0.8% थी तब भी मुंबई में इसे 12% बताया गया।


फडणवीस ने कहा की मुंबई में रोजाना 1 लाख आरटी-पीसीआर टेस्टिंग की सुविधा उपलब्ध है जबकि यहाँ मात्र 34,000 टेस्ट ही रोजाना हो रहे हैं। उस पर भी रैपिड एंटीजेन टेस्ट की संख्या 30% है जबकि आईसीएमआर की गाइडलाइन के मुताबिक आरटी-पीसीआर टेस्टिंग सुविधा उपलब्ध न होने पर ही रैपिड एंटीजेन टेस्ट की संख्या 30% हो सकती है अन्यथा यह 10% ही होनी चाहिए।

देवेन्द्र फडणवीस ने अपने पत्र में चिंता जताई है कि कम टेस्टिंग के कारण संक्रमण और मृत्यु दर के सही आँकड़े सामने नहीं आ पाएँगे जिससे समस्या बढ़ती ही जाएगी। फडणवीस का कहना है कि वह कोरोना संक्रमण के दौरान वह सरकार या BMC के प्रयासों को कमतर करके नहीं देख रहे हैं लेकिन सही आँकड़े पेश न कर पाने से कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई कमजोर हो जाएगी।






कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे