Breaking News

फ्लाईओवर के ऊपर आसमान से आया मज़ार, देश की राजधानी में अवैध अतिक्रमण: घंटों लगता है ट्रैफिक जाम

वहाँ के प्रबंधक का कहना है कि ये एक 'दरगाह' है। उसने अतिक्रमण के आरोपों को झूठा करार देते हुए कहा कि ये बहुत पुराना है और उसके दादा भी यहाँ बैठते थे। सवाल यह है की क्या वाकही दरगाह इतनी पुरानी है की वह हवा में लटक रही थी और उसे सहारा देने के लिए सरकार ने फ्लाय ओवर बनाया ? 

                                     फ्लायओवर पर अवैध निर्माण ,तस्वीर साभार ; हिंदी ऑपइंडिया 

दिल्ली के एक फ्लाईओवर पर अतिक्रमण से लोगों को जिस तरह से परेशानी हो रही है, उसे लेकर विरोध दर्ज कराया जा रहा है। ‘TV9 भारतवर्ष’ ने दिल्ली के इस अतिक्रमण की खबर के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इसे हिन्दू-मुस्लिम के नजरिए से देखने की बजाए विकास के चश्मे से देखने की सलाह दी। आज़ादपुर के इस मजार के कारण घंटो तक ट्रैफिक जाम भी लग रहा है वह भी सत्य है,समय एवं पेट्रोल हिन्दू मुस्लिम सबका व्यर्थ हो रहा है, 

सरकार जनता का समय और पैसा बचाने के लिए ही फ्लायओवर बनाती है, और कुछ लोग सड़को और फ्लाय ओवर को दादा पर दादा की मिलकत समझकर अवैध निर्माण कर देते है,और प्रशासन भी अपनी आँखे मूंद देता है,

ताज़ा घटना दिल्ली के आज़ादपुर की है। बड़ी सब्जी मंडी होने की वजह से ये इलाका जाना जाता है। यहाँ के एक फ्लाईओवर पर अवैध मजार बना दिया गया है। जहाँ से फ्लाईओवर शुरू होता है, वहीं पर एक मजार जैसी संरचना बना दी गई है। वहाँ के प्रबंधक का कहना है कि ये एक ‘दरगाह’ है। उसने अतिक्रमण के आरोपों को झूठा करार देते हुए कहा कि ये बहुत पुराना है और उसके दादा भी यहाँ बैठते थे।

उसने दावा किया कि साल 2009 के बाद यहाँ कोई निर्माण कार्य नहीं किया गया और सारी संरचनाएँ पहले की ही है। स्थानीय मुस्लिम दावा करते हैं कि पहले फ्लाईओवर के नीचे मजार हुआ करती थी और अब भी फ्लाईओवर के नीच ‘पीर बाबा’ की कब्र है। मजार को 1950 के पहले का बताया जा रहा है। लेकिन, लोगों को इधर से गुजरने में परेशानी हो रही है और घंटों जाम भी लगते हैं। लेकिन, प्रशासन ने कोई कार्रवाई नहीं की है।

दादा यहाँ बैठते  थे उसका मतलब वह जगह उनकी हो गयी ? तो ऐसे तो देश में कई लोग सड़को पर पैदा होते है और मरते है,तो क्या वह जगह उनकी हो जाएंगी ?

हाल ही में परेशान होकर एक महिला ने दिल्ली के एक मजार को खुद तहस-नहस कर दिया था। 24 जुलाई, 2021 को उक्त महिला ने प्रशासन पर कोई सुनवाई न करने का आरोप लगाते हुए मजार को तोड़ डाला था। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था।



कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे