Breaking News

75 साल में सुरक्षा परिषद बैठक की अध्यक्षता करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री बनेंगे नरेन्द्र मोदी

अंतरराष्ट्रीय मंच पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक और इतिहास रचने जा रहे हैं।नरेंद्र मोदी पहले भारतीय प्रधानमंत्री होंगे,जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक की अध्यक्षता करने में दिलचस्पी दिखाई है। इससे यह प्रतीत होता है कि हमारे लीडर अब दुनिया को फ्रंट से लीड करना चाहते हैं।

                सुरक्षा परिषद बैठक की अध्यक्षता करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री बनेंगे नरेन्द्र मोदी 

संयुक्त राष्ट्र में भारत के पूर्व स्थायी प्रतिनि​धि सैयद अकबरुद्दीन ने रविवार 1 अगस्त 2021 को बताया कि देश के आजाद होने के बाद पहली बार कोई भारतीय प्रधानमंत्री संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की बैठक की अध्यक्षता करने वाले हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत ने आज संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता संभाल ली है।

सैयद अकबरुद्दीन के मुताबिक, 9 अगस्त को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक की अध्यक्षता पीएम मोदी कर सकते हैं। 75 साल में ये पहला मौका होगा, जब एक भारतीय प्रधानमंत्री संयुक्त राष्ट्र के 15 सदस्यीय निकाय के एक कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे। अकबरुद्दीन ने साल 2019 की पीएम मोदी की संयुक्त राष्ट्र की अंतिम तस्वीर साझा करते हुए ट्वीट किया, ”हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले भारतीय प्रधानमंत्री होंगे, जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक की अध्यक्षता करने में दिलचस्पी दिखाई है। इससे ये साबित होता है कि हमारे लीडर अब फ्रंट से लीड करना चाहते हैं।”

उन्होंने बताया कि सुरक्षा परिषद में भारत का ये 8वाँ कार्यकाल है। नरेंद्र मोदी पहले भारतीय प्रधानमंत्री होंगे, जो सुरक्षा परिषद की किसी मीटिंग की अध्यक्षता करेंगे, भले ही ये वर्चुअल मीटिंग होगी, लेकिन हमारे लिए ऐतिहासिक है।

भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे टीएम तिरुमूर्ति ने बताया कि इस दौरान भारत तीन हाई लेवल मीटिंग करने जा रही है,जहां समुद्री सुरक्षा, शांति स्थापना और आतंकवाद का मुकाबला जैसे गंभीर मामलों पर चर्चा की जाएगी।

गौरतलब है कि सुरक्षा परिषद का हर सदस्य देश, एक महीने के लिए परिषद की अध्यक्षता संभालता है। अगस्त 2021 में सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता भारत के पास रहेगी। सुरक्षा परिषद के 15 सदस्य हैं, जिनमें से 5 देश चीन, फ्रांस, रूस, ब्रिटेन और अमेरिका स्थायी हैं। वहीं 10 अस्थायी सदस्य हैं।

भारत भी 10 अस्थायी देशों में से एक है। अस्थायी सदस्य के तौर पर भारत को दो साल का कार्यकाल मिला है, जो 1 जनवरी 2021 से शुरू हो चुका है। बताया जाता है कि हर महीने अंग्रेजी के लैटर के आधार पर अध्यक्षता बदलती रहती है। अब भारत को दिसंबर 2022 में फिर से अध्यक्षता करने का मौका मिलेगा। सभी देशवासियो के लिए यह गर्वान्वित करनेवाली बात है,



कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे