Breaking News

एक साल में दलितों पर अत्याचार के 6000 मामले, महिलाओं के खिलाफ अपराधों में शीर्ष पर राजस्थान : पीड़ितों को क्यों नहीं मिले राहुल-प्रियंका?

सवाल ये है कि जिस पार्टी के किसी राज्य के शीर्ष दो नेता दूसरे राज्य के मुद्दे को हवा देने में लगे हैं, उनके खुद के राज्य में बेरोजगारी बढ़ती जा रही है और रेप व दलितों पर अत्याचार के मामले में वो पहले नंबर पर है। मगर गांधी परिवार आँख कान बंद करे हुए है,

                                                तस्वीर साभार ,ऑपइण्डिया हिंदी 

पूरी की पूरी कॉन्ग्रेस पार्टी खुदकी पार्टी के कारनामे उजागर ना हो इसीलिए ‘लखीमपुर खीरी’ की माला जप रही है। मारे गए भाजपा कार्यकर्ताओं के परिजनों को कोई पूछने वाला नहीं है। बुझता दिया कांग्रेस पार्टी अब ‘किसान आंदोलन’ के सहारे उत्तर प्रदेश और पंजाब की चुनावी नैया पार करने का ख्वाब  देख रही है। छत्तीसगढ़ के कवर्धा में हिन्दुओं पर अत्याचार हो रहा है। पंजाब में ईसाई धर्मांतरण बढ़ रहा है। लेकिन, कॉन्ग्रेस को चिंता सिर्फ यूपी की है। जहा कांग्रेस मृत अवस्था में है,

कारण ये है कि योगी आदित्यनाथ को ज्यादा से ज्यादा बदनाम कर के वोट बटोरे जाएँ। अब तो चर्च में जानेवाली प्रियंका गाँधी ‘हिन्दू’ भी बन चुकी हैं। चंदन लगा रही हैं और मंदिर-मंदिर घूम रही हैं। अंबानी-अडानी के बाद अब टाटा को पीएम मोदी का दोस्त बताया जा रहा है।

राजस्थान के नेताओं की ‘अति-सक्रियता’

जहाँ-जहाँ कॉन्ग्रेस की सत्ता है, वहाँ-वहाँ वो आंतरिक कलह से जूझ रही है। राजस्थान के हालात तो सभी को पता हैं, जहाँ पिछले साल सचिन पायलट ने ‘लगभग’ पार्टी छोड़ दी थी। उनके बगावत के बाद कॉन्ग्रेस के होश उड़ गए थे। किसी तरह मामला सलटाया गया। लेकिन, नेताओं में अब भी होड़ मची है कि कौन राहुल-प्रियंका द्वारा उठाए गए मुद्दों को सबसे ज्यादा तूल देता है।

अशोक गहलोत भी सक्रिय हो गए। ‘जादूगर’ कहे जाने वाले गहलोत यूँ तो कई दिनों से बीमार थे और भगवान भरोसे चल रही राज्य सरकार में REET की प्ररीक्षा भी हो गई और प्रश्नपत्र लीक होने के आरोप भी लग गए, लेकिन वो कहीं नहीं दिखे। जैसे ही लखीमपुर खीरी का मामला सामने आया, वो जिन्न की तरह प्रकट हो गए। उन्होंने कह दिया कि इस घटना ने पूरे देश को हिला कर रख दिया है।

सचिन पायलट की तो पूछिए ही मत। वो तो अपने पूरे लाव-लशकर, यानी बड़ी-बड़ी कई गाड़ियों के काफिलों के साथ लखीमपुर खीरी के लिए निकल पड़े। साथ में उन्होंने आचार्य प्रमोद कृष्णन को लिया हुआ था।

सवाल ये है कि जिस पार्टी के किसी राज्य के शीर्ष दो नेता दूसरे राज्य के एक मुद्दे को हवा देने में लगे हैं, उनके खुद के राज्य में की सानो की पिटाई हो रही है,बेरोजगारी बढ़ती जा रही है और रेप के मामले में वो अव्वल है। आखिर क्या कारण है कि इन्हें अपने राज्य के लोगों की चीखें नहीं सुनाई देती। क्षेत्रफल के हिसाब से राजस्थान देश का सबसे बड़ा राज्य है, ऐसे में यहाँ के नेताओं को तो गृह राज्य के मुद्दों से फुरसत ही नहीं होनी चाहिए।

लखीमपुर खीरी हिंसा के बाद राजस्थान में हुई 5 घटनाएँ

राजस्थान में आपराधिक घटनाएँ आम बात हैं, खासकर महिलाओं के साथ अपराध के मामले में। राज्य में आए दिन बलात्कार की घटनाएँ सामने आते रहती हैं। अपराधियों की तो छोड़िए, यहाँ के पुलिसकर्मियों पर बलात्कार के आरोप आम बात हो गए हैं। ऐसे तो वहाँ अपराध की हाल में कई घटनाएँ हुई हैं, लेकिन हम यहाँ मुख्य रूप से 5 घटनाओं के बारे में बता रहे।

पहला मामला: राजस्थान के हनुमानगढ़ में दलित युवक की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। भाजपा और बसपा सुप्रीमो मायावती तक ने पूछा कि क्या भूपेश बघेल और चरणजीत सिंह चन्नी वहाँ जाकर पीड़ित परिवार को मुआवजा देंगे? इसका वीडियो भी वायरल हुआ। 

दूसरा मामला: 6 अक्टूबर, 2021 को डूंगरपुर और बाँसवाड़ा, एक ही दिन में दो जिलों में लूट की घटनाएँ हुईं। तीन बाइक सवार बदमाशों ने दोनों जिले के दो ज्वेलरी शॉप में बंदूक की नोक पर लूट की वारदात को अंजाम दिया । लाखों रुपए की चाँदी लूट कर ले गए।दुकानदार से मारपीट हुई। व्यवसायी डर के साए में जी रहे हैं, कॉन्ग्रेस सरकार सोइ हुई है।

तीसरा मामला: राजस्थान के भरतपुर जिले में दो अलग-अलग घटनाओं में गौ तस्करों ने गुरुवार और शुक्रवार को पुलिस टीमों पर गोलियाँ चलाईं और पथराव किया। इन घटनाओं में दो पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं। मवेशियों के अवैध परिवहन के साथ-साथ सीकरी से नगर क्षेत्र में अंतर-राज्यीय अपराधियों की आवाजाही की सूचना मिली थी। दूसरी घटना में गौ तस्करों ने 25 राउंड फायरिंग की।

चौथा मामला: झालावाड़ जिले में आदिवासी समुदाय की एक किशोरी से उसके पड़ोसी ने एक साल तक कथित तौर पर बार-बार दुष्कर्म किया और बाद में उसे गर्भपात के लिए गोलियाँ दीं। इससे भ्रूण की भी मौत हो गई। लड़की ने पेट में दर्द की शिकायत की और उसे एक स्थानीय अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने पाया कि वह 6 महीने की गर्भवती है। आरोपित का नाम दाऊद है। राहुल गाँधी तो क्या, कॉन्ग्रेस का एक कार्यकर्ता तक नहीं जाएगा पीड़िता के यहाँ।

पाँचवाँ मामला: राजस्थान की राजधानी तक सुरक्षित नहीं है। जयपुर के सांगानेर सदर इलाके में रविवार रात को एक युवक की सिर में गोली मारकर हत्या कर दी गई। मीणा समुदाय से आने वाले उस युवक का नाम रिंकू था। गुर्जर-मीणा एकता की वकालत करने वाले पायलट वहाँ नहीं जाएँगे, स्पष्ट है। रिंकू टैक्सी चलाया करता था। गोली सिर में मारी गई थी। लेकिन, मामला भाजपा शासित राज्य का नहीं है, इसीलिए मुख्यधारा की मीडिया में तूल नहीं पकड़ पाया।

इस तरह की कई घटनाएँ सामने आई हैं, लेकिन, कॉन्ग्रेस शासन होने के कारण देश को कुछ पता नहीं चला। क्यूंकि मिडिया चुप है,

आँकड़ों की बात करे तो 

दलितों से अत्याचार के मामले में राजस्थान पूरे देश में दूसरे नंबर पर आता है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के आँकड़ों की मानें तो केवल इसी साल अब तक दलितों के साथ अपराध के वहाँ 6000 से अधिक मामले आ चुके हैं। अभी तो ढाई महीने से भी अधिक हैं इस वर्ष को जाने को। इतना ही नहीं, इनमें से मात्र आधे में ही आरोपितों को सज़ा मिल सकी है। साल 2019 में 6,794 मामले दलितों पर अत्याचार के दर्ज हुए थे।

साल 2020 में ये आँकड़ा बढ़ कर 7017 हो गया। वहीं इस साल मात्र 24 दिनों के भीतर 3 दलितों की पीट-पीट कर हत्या का मामला सामने आ गया। भाजपा का तो कहना है कि अशोक गहलोत की सरकार ने अपराध के मामले में पिछले समस्त रिकार्ड्स तोड़ डाले हैं। 26 सितंबर को अलवर में एक दलित युवक की खेत में ले जाकर हत्या कर दी गई थी। मुस्लिम भीड़ ने 15 सितंबर को अलवर में ही योदेश की हत्या कर दी थी।

2020 में देश में सबसे ज्यादा रेप केस राजस्थान में दर्ज किए गए हैं। दूसरे नंबर पर उत्तर प्रदेश जरूर है, लेकिन यहाँ रेप के मामले राजस्थान के आँकड़ों से आधे से भी कम हैं। जबकि यूपी जनसंख्या के मामले में देश का सबसे बड़ा राज्य है। राजस्थान ने तीन गुना अधिक लोग यहाँ रहते हैं। राजस्थान में एक साल में 5,310 रेप केस दर्ज किए गए।

आँकड़ों को देख कर ये सवाल तो उठता है कि अपने शासन वाले राज्य में दलितों और महिलाओं को सुरक्षित न रख सकने वाली कॉन्ग्रेस दूसरे राज्यों में दो गुटों के बीच हुए संघर्ष को भी मुद्दा बना कर राजनीति करने पहुँच जाती है, जबकि मरने वालों में भाजपा कार्यकर्ता भी शामिल हैं। मृतकों तक के साथ भेदभाव किया जा रहा है। अशोक गहलोत और सचिन पायलट से राहुल-प्रियंका सवाल क्यों नहीं पूछते?

संगठन के कलह में डूबी है कॉन्ग्रेस, ख़ाक चलाएगी सरकार

पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धू और  कैप्टेन अमरिंदर सिंह के विवाद । सिद्धू मुख्यमंत्री चरणीत सिंह चन्नी को गाली देता वीडियो बड़ी न्यूज़ चेनल्स दिखाती है ,कांग्रेस चुप है, सीएम चन्नी के बेटे की शादी हुई, लेकिन सिद्धू वहाँ से नदारद रहे और वैष्णो देवी घूमने चले गए। पंजाब का कलह शांत नहीं हुआ है। तल्खी अभी भी चरम पर है।

छत्तीसगढ़ को ही ले लीजिए, जो अपेक्षाकृत छोटा राज्य है। कवर्धा में मुस्लिम भीड़ ने भगवा ध्वज उखाड़ के फेंक दिया, इसे अपमानित किया, लेकिन पुलिस ने हिन्दुओं को पीटा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मजे में यूपी में रैली कर रहे।

यहाँ भी आंतरिक कलह है। ज्यादा से ज्यादा चुनाव प्रचार कर रहे और राहुल-प्रियंका के साथ दिख रहे भूपेश बघेल को भी कुर्सी जाने का डर है, तभी उन्होंने अपने समर्थक विधायकों से दिल्ली में कई दिनों तक कैंप करवाया। 

राजस्थान की तो पूछिए ही मत। सचिन पायलट गेहलोत के बिच अभी भी दीवार खड़ी है 

ऐसे में सोचने वाली बात ये है कि भाजपा शासित राज्यों के सेलेक्टिव मुद्दों उठा कर राजनीति करने वाली कॉन्ग्रेस, जो हर राज्य में आंतरिक कलह से जूझ रही है, जिसके खुद के शासन में अपराध चरम पर है – वो इस देश का भला कर सकती है? अब तो TMC भी राहुल गाँधी की जगह ममता बनर्जी को विपक्ष का चेहरा बताने लगी है। शिवसेना शरद पवार के गुण जाती है। कॉन्ग्रेस ये सब कर के अपने पाँव पर कुल्हाड़ी मार रही है। अगर उसे मोदी-शाह का मुकाबला करना है, तो अपने शासन वाले राज्यों में अपराध को काबू में करे। 

याद रहे प्रियंका गांधी या किसीभी कोंग्रेसिको एक भी किसान की मौत से कुछ लेना देना नहीं, मगर यह बात किसानो के भेजेमे तब उतरेंगी जब वह अपनी खुद की आँखे खोलेंगे, टिकैत जैसे भेड़ियों की आँखों से कुछ नहीं दिखाई देने वाला, क्या कभी एक भी किसान नेता को कभी कोई खरोच आयी है ?

लखीमपुर घटना को लेकर आज महाराष्ट्र बंद रहा,शिवसेना के गुंडों ने लोगो को पिटा,और उनके मुख्यमंत्री धृतराष्ट्र बन गए, शरद पवार कृषि प्रधान थे तब जो कानून लाना चाहते थे आज उसका विरोध कर रहे है, क्यों ?


कोई टिप्पणी नहीं

आपको किसी बात की आशंका है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखे